इंसान की फितरत को समझना इतना आसान नहीं है , क्योंकि जो उसका स्वार्थ है वही उसको  अच्छा या बुरे की क्षेणी में खड़ा करता है।  किसी को अच्छा या बुरा हम अपने मन की ख़ुशी से देखते हैं न की आत्मा की नज़र से।  क्योंकि आत्मा न्याय की वोContinue Reading